Virat Kohli Exclusive: कोहली के शब्द हमेशा कानों में गूंजते रहेंगे… NBT के पत्रकार के करिश्माई लम्हे की इनसाइड स्टोरी

0
0


सिडनी: पाकिस्तान के खिलाफ वो हैरतअंगेज पारी और करिशमाई छक्का लगाने से पहले भी ऑस्ट्रेलिया में कोहली का जलवा अलग था। पाकिस्तान मुकाबले से पहले मैंने करीब 1000 से ज्यादा पाकिस्तानी फैंस से उनके सबसे खतरनाक भारतीय बल्लेबाज के बारे में पूछा तो उनका 99 फीसदी जवाब होता- विरात कोहली…। जी हां, विरात ना कि विराट जैसा कि हम लोग कहते हैं। पाकिस्तानी विराट को विरात ही कहते हैं, ज्यादातर जैसे कि रमीज राजा युवराज सिंह को अब भी योगराज (युवराज के पिता) कहते हैं। इसके अलावा जब मैं हर पाकिस्तानी से ये सवाल दोहराया कि सबसे पसंदीदा बल्लेबाज कौन है तो जवाब फिर वही होता- कोहली।

मेलबर्न का महामुकाबला खत्म होने के बाद जब मैंने फिर से मैच हारने के बारे में पाकिस्तानी फैंस से सवाल किए तो उनका जवाब फिर वही था- अगर विरात कोहली ऐसा खेलेंगे तो आपको नतीजे का अफसोस नहीं होना चाहिए। कोहली ने अब तक कभी भी पाकिस्तान का दौरा नहीं किया है, लेकिन जो इज्जत और सम्मान उन्हें पाकिस्तानी दिग्गजों और आम फैंस से मिलता है उसकी तुलना आप सुनील गावस्कर और सचिन तेंदुलकर से भी नहीं कर सकते हैं।

ये दो ऐसे दिग्गज रहे हैं, जिन्होंने फैंस को भारत-पाकिस्तान के बाहर भी अपना मुरीद बनाया है, लेकिन कोहली की बात ही कुछ और है। खासकर पाकिस्तानियों की नजर में। ऑस्ट्रेलियाई दर्शकों के लिए कोहली तो किंग हैं ही। अगर कोहली से कभी भी ये पूछा जाए कि वो भारत के अलावा क्रिकेट कहां खेलना पसंद करेंगे तो उनका जवाब ऑस्ट्रेलिया के अलावा कुछ और हो ही नहीं सकता है। जिस तरह से उनके हर कदम को ऑस्ट्रेलिया में फॉलो किया जाता है उसकी कोई मिसाल नहीं है।

सिडनी में जब कोहली अपने पहले अभ्यास सत्र के लिए पहुंचे और उसके बाद वो पवेलियन लौट रहे थे तो इस लेखक ने उनसे कहा कि- भाई साहब, आपने तो मेरे टिकट के पैसे वसूल करा दिए तो मुस्कराते हुए बेहद गंभीर अंदाज में कोहली कहा अभी तो बस ये शुरुआत है… मैं बस स्तब्ध रह गया…। कोहली तब तक मेरी आंखों से ओझल होकर ड्रेसिंग रूम में प्रवेश कर चुके थे। ये वही कोहली थे जो एक हफ्ते पहले ब्रिसबेन में नेट्स सेशन के दौरान मेरे पास खुद आए थे और मेरा हाल-चाल पूछा था।

कोहली ने निजी तौर पर मुझसे कहा था कि एशिया कप के दौरान उन्हें अर्शदीप वाले मुद्दे पर देखा था और उनका कहना था कि बस ऐसे ही स्पोर्ट करते रहिए टीम को। कोहली को मैं अंडर 19 के दिनों से जानता हूं और उनका पहला टीवी इंटरव्यू भी मैंने बेंगलुरु में 2006 जून में किया था। उस के बाद से लेकर अब तक कोहली के साथ कई बातें, मुलाकातें और साक्षात्कार हुए हैं लेकिन सिडनी में कोहली ने जो वो एक वाक्य बोला वो मेरे कानों में हमेशा के लिए गूंजता रहेगा।
दृढ़ इच्छा शक्ति, अनंत ऊर्जा का सागर, बिखराव के बाद अटल साधना… लो फिर आ गया अपना विराट कोहलीIND vs PAK: सुंदर पिटाई… गूगल के सीईओ को ट्रोल कर रहा था पाकिस्तान फैन, मिला ऐसा जवाब कि बंद हो गई बोलतीT20 World Cup: ‘मुझे बचाने के लिए थैंक्स अश्विन…’ दिनेश कार्तिक ने विनिंग रन के लिए ऑन कैमरा दिया बड़ा बयान

.



Source link