Taliban captured all the cricket stadiums in Afganistan, except 3 players including Rashid Khan mostly trapped in the war zone | तालिबान ने देश के सभी क्रिकेट स्टेडियम पर कब्जा किया, राशिद खान सहित 3 खिलाड़ियों को छोड़ ज्यादातर वॉर जोन में फंसे

0
2


  • Hindi News
  • Sports
  • Cricket
  • Taliban Captured All The Cricket Stadiums In Afganistan, Except 3 Players Including Rashid Khan Mostly Trapped In The War Zone

काबुल4 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

मोहम्मद नबी और राशिद खान ने वर्ल्ड लीडर्स से अपील की है कि मुश्किल वक्त में अफगानिस्तान को अकेला न छोड़ा जाए।

तालिबान ने अफगानिस्तान की सत्ता हासिल कर ली है। ऐसे में वहां की टीम का इसी साल अक्टूबर-नवंबर में होने वाले टी-20 क्रिकेट वर्ल्ड कप में खेलना अधड़ में अटक गया है। माना जा रहा है कि तालिबान की सरकार को दुनिया के ज्यादातर देश मान्यता नहीं देंगे। इस स्थिति में वहां की टीम का वर्ल्ड कप में खेल पाना मुश्किल हो सकता है।

6 बड़े स्टेडियम तालिबान के कब्जे में
तालिबानी ने काबुल सहित अफगानिस्तान में मौजूद 6 बड़े क्रिकेट स्टेडियम पर कब्जा कर लिया है। अब ये स्टेडियम और देश में क्रिकेट की अन्य सुविधाएं वहां के खिलाड़ियों को मिलेगी या नहीं यह तालिबान के रुख पर निर्भर करेगा। तालिबानी आम तौर पर खेल के विरोधी माने जाते रहे हैं।

राशिद और नबी ने की है दुनिया से अपील
इस समय अफगानिस्तान के तीन स्टार क्रिकेटर राशिद खान, मोहम्मद नबी और मुजीब उर रहमान द हंड्रेड टूर्नामेंट में हिस्सा लेने के लिए इंग्लैंड में हैं। इनके अलावा वहां के ज्यादातर खिलाड़ी वॉर जोन में फंसे हुए हैं। राशि और नबी ने सोशल मीडिया पोस्ट के जरिए दुनियाभर के शीर्ष नेताओं से अपील की है कि वे इस अफरातफरी के माहौल में अफगानिस्तान और वहां क्रिकेट को बचाएं।

सीधे क्वालिफाई करने वाली 8 टीमों में शामिल
अफगानिस्तान की टीम वर्ल्ड कप के लिए सीधे क्वालिफाई करने वाली दुनिया की 8 टीमों में शामिल है। राशिद खान की कप्तानी वाली टीम ने पिछले कुछ सालों में अच्छा प्रदर्शन किया है और वह टी-20 रैंकिंग में सातवें स्थान पर है। अफगानिस्तान के दमदार प्रदर्शन को इस फैक्ट के जरिए समझा जा सकता है कि श्रीलंका और बांग्लादेश की टीमें सीधे क्वालिफाई नहीं कर सकी हैं।

IPL में भागीदारी भारत के रुख पर निर्भर
राशिद खान सहित कई अफगानी क्रिकेट IPL में भी खेलते हैं। IPL-2021 का दूसरा लेग UAE में होना है। अब इसमें अफगानी खिलाड़ी खेलेंगे या नहीं यह पूरी तरह भारत सरकार के रुख पर निर्भर करेगा। भारत ने पहले भी कभी तालिबान को मान्यता नहीं दी है। भारत कहता रहा है कि ताकत के दम पर सत्ता हासिल करने वाले को वह मान्यता नहीं देगा। अगर भारत सरकार फिर कड़ा रुख अपनाती है तो BCCI के लिए अफगानी खिलाड़ियों को अब IPL में एंट्री देना मुश्किल हो सकता है। हालांकि, इस बारे में अभी कोई फैसला नहीं हुआ है।

खबरें और भी हैं…

.



Source link