rohit sharma said- I do not have any extra time to face the bowler | सलामी बल्लेबाज ने कहा- मेरे पास गेंदबाज का सामना करने के लिए कोई एक्सट्रा टाइम नहीं होता

0
0


29 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

रोहित शर्मा अंतरराष्ट्रीय स्�

लॉर्ड्स टेस्ट के पहले दिन रोहित शर्मा ने अपनी शानदार बल्लेबाजी से सभी का दिल जीत लिया। अनुभवी सलामी बल्लेबाज ने 145 गेंदों का सामना करते हुए 11 चौके और एक छक्के की मदद से लाजवाब 83 रनों की पारी खेली। हिटमैन लॉर्ड्स के मैदान पर अपना ऐतिहासिक शतक नहीं बना सके, लेकिन उनकी इस पारी ने टीम इंडिया के ऊपर से दबाव हटाने का पूरा काम किया।

बतौर सलामी बल्लेबाज बनाए कई रिकॉर्ड्स

मौजूदा समय में रोहित शर्मा का नाम दुनिया के सर्वश्रेष्ठ सलामी बल्लेबाजों में लिया जाता है। रोहित इकलौते ऐसे खिलाड़ी है, जिन्होंने वनडे में एक नहीं बल्कि तीन-तीन दोहरे शतक लगाए हैं। 2019 के एकदिवसीय विश्व कप में तो रोहित ने पांच शतक लगाने के वर्ल्ड रिकॉर्ड भी बनाया था। मगर इसके बाद भी रोहित शर्मा को लेकर कई क्रिकेट एक्सपर्ट्स और फैंस का ऐसा कहना रहा है कि, वह काफी सुस्त बल्लेबाज है और उनके पास शॉट खेलने के लिए हमेशा समय रहता है।

मेरे पास बिल्कुल समय नहीं होता

हाल ही में दिनेश कार्तिक ने स्काई स्पोर्ट्स के लिए रोहित शर्मा का इंटरव्यू लिया, जहां रोहित अपने आलोचकों की बोलती बंद करते नजर आए। रोहित ने अपने बयान में कहा, ‘मैंने लोगों को यह कहते सुना है कि ‘उसके पास समय है’। नहीं बॉस, मेरे पास समय नहीं है। मुझे पता है जब मैं गेंदबाज का सामना कर रहा हूं, तो मुझे तैयार रहना होगा। एक्सट्रा टाइम या उसके पास समय रहता है, जैसा कुछ नहीं है। हर एक बल्लेबाज जब वह गेंदबाज का सामना कर रहा होता है, उसके सामने चुनौतियां होती है। इसलिए आपको हमेशा अपने खेल को शीर्ष पर रखना होता है।‘

रोहित ने आगे कहा, ‘गेंदबाज का सामना करने में कोई समय नहीं होता। हां, तकनीकी रूप से आप कह सकते हैं कि वह गेंद को देर से खेलता है, लेकिन ‘उसके पास समय है, अधिक समय’ जैसी कोई चीज नहीं होती। ऐसा मेरा मानना है।

सुस्त बल्लेबाजी पर भी बोले हिटमैन

कई बार फैंस और क्रिकेट जानकारों ने रोहित शर्मा के ऊपर सुस्त बल्लेबाजी करने जैसी टिप्पणी भी की है। इस पर भी रोहित अपने आलोचकों का मुंह बंद करने में पीछे नजर नहीं आए। उन्होंने कहा, ‘जब आप कोई भी खेल खेल रहे हो, तो आप सुस्त बिल्कुल नहीं हो सकते। हां, हो सकता है कि टीवी पर देखने में ऐसा लगता हो, लेकिन कोई भी खिलाड़ी ऐसे अपना लक्ष्य हासिल नहीं कर सकता।‘

रोहित ने कहा, ‘जब से मैंने भारत के लिए खेलना शुरु किया है, तब से मैं ऐसा सुन रहा हूं। जब एक गेंदबाज 145 की गति के साथ बॉल डाल रहा है और मैं उस पर पुल शॉट खेलता हूं तो मैं कैसे सुस्त बल्लेबाज हो सकता हूं। अरे वो तो आलसी बल्लेबाज है, ये बात मेरी समझ में नहीं आती।‘

खबरें और भी हैं…

.



Source link