Muttiah Muralitharan on dhoni: World Cup final MS Dhoni came ahead of Yuvraj Singh in 2011 because of me says Muttiah Muralitharan: ..तो इसलिए युवी से पहले आए थे धोनी, 2011 के फाइनलिस्ट महान मुरलीधरन का खुलासा

0
0


नई दिल्ली
2011 में वर्ल्ड कप जीतकर भारतीय टीम ने अपेन 28 साल का सूखा खत्म किया था। फाइनल में श्रीलंका के खिलाफ गौतम गंभीर जीत के असल शिल्पकार थे, जबकि धोनी ने भी विपरित हालातों में आकर बेहतरीन पारी खेली थी। माही ने खुद को प्रमोट करते हुए युवराज सिंह से पहले पिच पर कदम रखा था।

पूर्व भारतीय कप्तान के इस फैसले पर आजतक बहस होती है। अब महान स्पिनर और फाइनल में श्रीलंका टीम के हिस्सा रहे मुथैया मुरलीधरन ने इसी मामले पर बड़ा बयान दिया है। बकौल मुरलीधरन धोनी उनकी की सबसे घातक बॉल यानी दूसरा समझ चुके थे।

लंबे छक्के उड़ाता है साढ़े छह फीट लंबा यह क्रिकेटर, IPL में पहली बार दिखेगा सिंगापुर पावर
मुरलीधरन ने कहा कि आईपीएल में एक ही टीम चेन्नई सुपरकिंग्स के साथ खेलने की वजह से धोनी मेरा दूसरा समझ चुके थे। जबकि युवराज को मुझे खेलने में काफी दिक्कत होती थी। 2011 वर्ल्ड कप के बाद इंटरनेशनल क्रिकेट को अलविदा कहने वाले मुरलीधरन की माने तो सिर्फ कुछ भारतीय क्रिकेटर्स ही दूसरा समझ पाते थे।

मुरलीधरन दुनिया के सबसे सफल गेंदबाज हैं। वनडे में उनके नाम 534 विकेट हैं तो टेस्ट में 800 का आंकाड़ा टच कर चुके हैं। बकौल मुरलीधरन, ‘सचिन तेंदुलकर, वीवीएस लक्ष्मण और गौतम गंभीर के पास उनकी दूसरा का तोड़ था। वीरेंद्र सहवाग के बारे में वह श्योर नहीं।

ओलिंपिक से लौटते ही हुआ था जानलेवा हमला, सर्जरी के बाद चेहरा पहचानना मुश्किल
बताते चलें कि जब मुरलीधरन दूसरा फेंकते थे तब वह सीम का इस्तेमाल ही नहीं करते थे इसलिए बल्लेबाजों को गेंद पढ़ने में मुश्किल होती थी। जब तक आप मुरलीधरन की कलाई नहीं देखेंगे तो दूसरा बॉल नहीं खेल पाएंगे।

.



Source link