Chandauli jawan commits suicide in Himachal Pradesh: Spoke to wife and brother a day ago, said that after retiring in November, I will spend time with family | एक दिन पहले पत्नी और भाई से बात की, कहा- नवंबर में सेवानिवृत्त के बाद परिवार के साथ समय बिताऊंगा

0
0


  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Chandauli
  • Chandauli Jawan Commits Suicide In Himachal Pradesh: Spoke To Wife And Brother A Day Ago, Said That After Retiring In November, I Will Spend Time With Family

चंदौली26 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

चंदौली के जवान हरिद्वार यादव ने गुरुवार को हिमाचल प्रदेश में सुसाइड कर लिया।

चंदौली के जवान हरिद्वार यादव ने गुरुवार को हिमाचल प्रदेश में सुसाइड कर लिया। खबर घर पहुंचते ही परिजनों में कोहराम मच गया। लोगों की भीड़ उनके घर पर जुट गई। हालांकि परिवार वालों को पहले कश्मीर के राजौरी में मुठभेड़ के दौरान शहीद होने की जानकारी मिली थी, लेकिन बाद में उन्होंने बताया कि हिमाचल प्रदेश में हरिद्वार ने सुसाइड कर लिया है। वहीं सुसाइड के कारणों का अभी पता नहीं चल सका है।

हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा जिले में थी तैनाती

चहनियां ब्लॉक के हसनपुर गांव के ग्राम प्रधान राजेश यादव के बड़े भाई हरिद्वार यादव (45) सेना में हवलदार के पद पर तैनात थे। परिवार वालों ने गुरुवार को बताया कि हरिद्वार जम्मू कश्मीर के राजौरी में आतंकियों से मुठभेड़ में शहीद हो गए हैं। बाद में बताया गया कि हरिद्वार की तैनाती हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा जिले की योल छावनी में थी। यहीं पर उन्होंने सुसाइड कर लिया। हालांकि सुसाइड के कारण अभी पता नहीं चल सका है।

हरिद्वार के परिवार में पिता कल्पनाथ यादव, मां बेचो देवी, पत्नी लीलावती देवी, बेटा गौरव (20) व कृष्णा (14) और बेटी तमन्ना (17) के अलावा भाई राजेश यादव और प्रमोद यादव हैं।

पंचायत चुनाव में भाई को जिताने आए थे

हरिद्वार यादव के छोटे भाई राजेश यादव ने हसनपुर गांव से ग्राम प्रधान का चुनाव लड़ा था। भाई को चुनाव में जीत दिलाने के लिए जवान हरिद्वार यादव अप्रैल में अपने घर आए थे। चुनाव में उनके भाई राजेश यादव ग्राम प्रधान निर्वाचित भी हो गए। इसके बाद 9 मई को हरिद्वार यादव छुट्टी बीताने के बाद लौट गए थे।

निधन की सूचना मिलते ही समूचे ग्रामीणों में भी शोक की लहर दौड़ पड़ी। घर पर लोगों की भीड़ जुट रही है।

निधन की सूचना मिलते ही समूचे ग्रामीणों में भी शोक की लहर दौड़ पड़ी। घर पर लोगों की भीड़ जुट रही है।

ग्रामीणों में शोक की लहर

हसनपुर गांव के हरिद्वार यादव की 1995 में भारतीय सेना में भर्ती हुई थी। उनका नवंबर 2021 में सेवानिवृत्त होना था। उनके निधन की सूचना मिलते ही समूचे ग्रामीणों में भी शोक की लहर दौड़ पड़ी। हरिद्वार यादव की एक दिन पहले ही बुधवार की रात मोबाइल पर पत्नी लीलावती व छोटे भाई प्रमोद यादव से बात हुई थी। उन्होंने नवंबर में सेवानिवृत्त के बाद परिवार के साथ पूरा समय बिताने की बात भी कही थी।

खबरें और भी हैं…



Source link