CAT 2021| IIM Ahmedabad changes eligibility criteria for examination, exempts candidates from minimum percentage of marks | IIM अहमदाबाद ने परीक्षा के लिए एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया में किए बदलाव, मिनिमम परसेंटेज ऑफ मार्क्स से कैंडिडेट्स को दी छूट

0
0


  • Hindi News
  • Career
  • CAT 2021| IIM Ahmedabad Changes Eligibility Criteria For Examination, Exempts Candidates From Minimum Percentage Of Marks

18 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट (IIM), अहमदाबाद ने CAT 2021 के लिए एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया में कई बदलाव किए हैं। CAT 2021 के लिए जारी नोटिफिकेशन के मुताबिक परीक्षा के लिए आवेदन करने वाले कैंडिडेट्स किसी मान्यता प्राप्त यूनिवर्सिटी से कम से कम 50 प्रतिशत अंकों या समकक्ष सीजीपीए के साथ ग्रेजुएट होने चाहिए। वहीं, एससी / एसटी / पीडब्ल्यूडी कैंडिडेट्स के लिए 45% तय किए गए हैं।

कोरोना महामारी के चलते लिया फैसला

परीक्षा समिति ने देश भर में कोरोना महामारी को देखते हुए CAT 2021 के लिए योग्यता मानदंड में कई तरह की छूट दी है। दरअसल, परीक्षा समिति को महामारी के दौरान मार्कशीट के बदले जारी किए गए प्रमोशन/पास सर्टिफिकेशन वाले कैंडिडेट्स से कई सवाल प्राप्त हुए थे। इन सभी बातों को ध्यान में रखते हुए, समिति ने कैट 2021 के लिए पात्रता मानदंडों में संशोधन का फैसला किया।

अंतिम वर्ष के उम्मीदवारों के लिए कैट 2021 पात्रता

बैचलर कोर्सेस के लिए पिछले दो सालों में से किसी एक में “अवार्ड ऑफ मार्क्स” सर्टिफिकेट के बजाय “प्रमोटेड / पास” वाले कैंडिडेट्स एप्लीकेशन फॉर्म में “प्रमोटेड या पास” ऑप्शन दर्ज कर सकते हैं। यह छूट उन फाइनल ईयर के स्टूडेंट्स पर भी लागू होगी, जिन्हें “अवार्ड्स ऑफ मार्क्स” सर्टिफिकेट मिलता है। यह सुविधा सिर्फ उन कैंडिडेट्स के लिए उपलब्ध है, जो इस साल ग्रेजुएट की डिग्री पूरी कर रहे हैं या फाइनल ईयर के बैचलर प्रोग्राम ( 2021 और 2022) में हैं।

मिनिमम परसेंटेज ऑफ मार्क्स को भी हटाया गया

कोरोना महामारी के कारण देशभर की विभिन्न यूनिवर्सिटी द्वारा अपनाए गए विभिन्न असेसमेंट पैटर्न को ध्यान में रखते हुए परीक्षा समिति ने कैट 2021 परीक्षा में शामिल होने के लिए न्यूनतम प्रतिशत अंक (45 प्रतिशत और 50 प्रतिशत) को भी हटा दिया है। ऑफिशियल नोटिफिकेशन के मुताबिक “यह फैसला सिर्फ कैट 2021 की परीक्षा के एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया पर लागू होगा। कैंडिडेट्स को संबंधित संस्थान की स्पेसिफिक एडमिशन पॉलिसी को देखने और उन्हें फॉलो करने की सलाह दी जाती है।

खबरें और भी हैं…



Source link