27 की जनसभा और रोड शो रद्द, जानिए क्या मैसेज देना चाहते हैं मुख्यमंत्री | 27’s public meeting and road show canceled, know what message the Chief Minister wants to give

0
0

पटना34 मिनट पहले

बिहार में दो विधानसभा में उपचुनाव होने जा रहा है। दोनों सीटों, गोपालगंज और मोकामा, पर एक ही दिन 3 नवंबर को वोटिंग होनी है। 2020 में हुए चुनाव में एक सीट भाजपा के पास थी और एक राजद के पास। लेकिन 2022 में हो रहे उप चुनाव और तब के हालात में बड़ा परिवर्तन भाजपा के सत्ता से बेदखल होने की है। इन दोनों सीटों का ट्रैक रिकॉर्ड देखें तो राजनीतिक हलकों में सत्ता पक्ष के लिए मोकामा में जीत के चांसेज अधिक हैं। इसके बावजूद सीएम नीतीश मोकामा नहीं जा रहे हैं।

जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह मोकामा आए और चुनाव प्रचार भी किया। दोनों सीटों पर उम्मीदवार राजद के ही हैं। लेकिन, मोकामा और गोपालगंज को लेकर जदयू खास उत्साहित नहीं है। इस कारण बिहार की राजनीति में अलग ही चर्चा शुरू हो रही है।

नीतीश नहीं जाएंगे मोकामा

मोकामा में सीएम नीतीश कुमार के चुनाव प्रचार का शेड्यूल नहीं तय हुआ है। हालांकि , 27 अक्टूबर को सीएम नीतीश मोकामा जाना था। वहां उनको जनसभा के साथ रोड शो भी करना था। लेकिन ऐन मौके पर ये इस चुनाव प्रचार को रद्द कर दिया गया। मिली सूचना के मुताबिक अब नीतीश कुमार ना ही गोपालगंज जाएंगे और ना मोकामा जाएंगे।

पहले चर्चा यह थी कि नीतीश कुमार आज यानी गुरुवार को तेजस्वी यादव के साथ मोकामा में जनसभा को संबोधित करेंगे लेकिन यह कार्यक्रम फाइनल नहीं हो पाया। तेजस्वी यादव आज दिल्ली से पटना पहुंचने वाले हैं लेकिन, नीतीश कुमार के कार्यक्रम को लेकर कोई अधिकारिक जानकारी अब तक के साझा नहीं की गई। ऐसे में नीतीश के दौरे को लेकर संशय बना हुआ है।

अनंत सिंह या उनसे जुड़े लोगों से दूरी बनाना चाहते हैं

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार मोकामा चुनाव प्रचार में जाने से बचना चाहते हैं। जाहिर सी बात है वह अनंत सिंह या उनसे जुड़े लोगों से दूरी बनाना चाहते हैं। इसको लेकर वह अपने स्वास्थ्य को बड़ा कारण बता सकते हैं। पिछले दिनों नीतीश कुमार के पेट में चोट आई थी। उन्हें हेलिकॉप्टर के बेल्ट को पहनने में दिक्कत हो सकती है। ऐसे में वह मोकामा या फिर गोपालगंज नहीं जाना चाहते हैं।

आरजेडी के दोनों उम्मीदवार दागी है। अनंत सिंह के बारे में सभी को पता है। वही गोपालगंज के उम्मीदवार मोहन गुप्ता शराब व्यवसाई रहे हैं। ऐसे में नीतीश कुमार विधानसभा के उपचुनाव में चुनाव प्रचार अपने आप को अलग रखना चाहते हैं।

सीएम नीतीश कुमार और तेजस्वी यादव। (फाइल फोटो)

सीएम नीतीश कुमार और तेजस्वी यादव। (फाइल फोटो)

तेजस्वी के लिए छिपा है मैसेज?

दरअसल, मोकामा की सीट पिछले चार चुनावों में अनंत सिंह के आसपास रही है। अनंत सिंह इस सीट पर जदयू, निर्दलीय और राजद से चुनाव लड़ चुके हैं और हर बार जीते हैं। इस बार भी उनकी पत्नी नीलम देवी प्रत्याशी हैं। जबकि गोपालगंज में पिछले चार पूरी तरह भाजपा का कब्जा रहा है। हर बार जीत भाजपा के सुभाष सिंह की हुई है। और इस बार सुभाष सिंह के निधन के बाद हो रहे इस उपचुनाव में प्रत्याशी उनकी पत्नी कुसुम देवी उम्मीदवार हैं।

जाहिर तौर पर इस सीट पर सत्ता पक्ष को अधिक मेहनत करनी होगी। लेकिन सीएम नीतीश या जदयू की ओर से अभी तक खासी दिलचस्पी नहीं दिखाई जा रही है। अब चर्चा यह भी होने लगी है कि सीएम नीतीश गोपालगंज न जाकर अपनी साख बचाने की कोशिश कर रहे हैं। ताकि चुनाव नतीजों में ऊंच-नीच होने पर सीधा ब्लेम सीएम नीतीश पर न आए।

खबरें और भी हैं…

.



Source link