विराट 5 मुकाबलों में 4 बार नाबाद रहे, सचिन 3 बार प्लेयर ऑफ द मैच | T-20 World cup: virat kohli vs sachin tendulkar statistics

0
0


स्पोर्ट्स डेस्क2 घंटे पहले

4 मार्च 1992 ऑस्ट्रेलिया के सिडनी क्रिकेट ग्राउंड पर वर्ल्ड कप में पहली बार भारत और पाकिस्तान का आमना-सामना हुआ। भारतीय टीम ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 49 ओवर में 7 विकेट खोकर 216 रन बनाए।

सचिन तेंदुलकर ने भारत के लिए सबसे ज्यादा 54 रन की पारी खेली। उन्होंने 62 बॉल का सामना किया। जवाब में पाकिस्तान की टीम 48.1 ओवर में 173 रन ही बना पाई और भारत ये मुकाबला 43 रन से जीत लिया। सचिन तेंदुलकर इस मैच में प्लेयर ऑफ द मैच थे।

अब कट टू कट बात करते हैं 2015 वनडे वर्ल्ड कप की, एक बार फिर विश्व कप ऑस्ट्रेलिया में खेला जा रहा था। सचिन तेंदुलकर संन्यास ले चुके थे। एडिलेड में भारत और पाकिस्तान के बीच मुकाबला खेला गया। इस मैच में भारतीय टीम पहले बल्लेबाजी करने आई और 50 ओवर में 7 विकेट खोकर 300 रन बना दिए।

टीम इंडिया के लिए सबसे ज्यादा रन विराट कोहली ने बनाए। उन्होंने 126 बॉल का सामना किया और 107 रन की पारी खेली। कोहली इस मैच में प्लेयर ऑफ द मैच थे। 1992 से 2011 तक जब तक सचिन तेंदुलकर टीम इंडिया के लिए खेले, पाकिस्तान के खिलाफ उनका बल्ला आग उगलता था।

उनके संन्यास लेने के बाद विराट कोहली ने उनकी जगह ले ली है। क्रिकेट के सबसे बड़े टूर्नामेंट में विराट जब-जब पाकिस्तान के खिलाफ खेले उनके बल्ले से रन निकलना तय है। इस स्टोरी में हम दोनों दिग्गजों के वर्ल्ड कप में पाकिस्तान के खिलाफ रिकॉर्ड देखेंगे और साथ ही उनकी बेमिसाल पारियों की कहानी भी जानेंगे…

टी-20 वर्ल्ड कप में पाकिस्तान के खिलाफ 300 से ज्यादा की औसत से रन बनाते हैं कोहली
क्रिकेट के सबसे छोटे फॉर्मेट के वर्ल्ड कप में विराट कोहली ने पाकिस्तान के खिलाफ 5 मैच खेले हैं। इस दौरान उन्होंने 308 रन बनाए हैं। उनका स्ट्राइक रेट 308 का रहा है। वहीं, इन पांच मुकाबलों में 4 बार पाकिस्तान की टीम किंग कोहली को आउट ही नहीं कर पाई है।

2012 में पहली बार पाकिस्तान के खिलाफ उतरे थे कोहली
पहली बार विराट टी-20 वर्ल्ड कप में 2012 में पाकिस्तान के खिलाफ मैदान पर उतरे थे। पाकिस्तान पहले बल्लेबाजी करते हुए 19.4 ओवर में 128 रन ही बना पाई थी। जवाब में कोहली के बल्ले से 78 रन निकले। उन्होंने अकेले अपने दम पर भारत को 8 विकेट से मैच जिता दिया।

जब टीम इंडिया को जीत मिली तब 3 ओवर बचे थे। कोहली ने इस मैच में बॉलिंग से भी कमाल किया था और 21 रन देकर 1 विकेट भी अपने नाम किया था।

2014 के टी-20 वर्ल्ड कप में जब दोनों टीमों की भिड़ंत हुई तो पाकिस्तान ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 20 ओवर में 7 विकेट खोकर केवल 130 रन बनाए। इस मैच में भी कोहली ने 36 रन बनाए थे। टीम इंडिया ने ये मुकाबला 7 विकेट से जीता था।

2016 में बनाए 55 रन
2016 के टी-20 वर्ल्ड कप में भारत-पाकिस्तान का मुकाबला कोलकाता में खेला गया था। एक बार फिर पाकिस्तान की टीम ने पहले बल्लेबाजी की और वो फिसड्डी साबित हुई। उन्होंने 20 ओवर में सिर्फ 118 रन बनाए। हालांकि, टीम इंडिया जब बल्लेबाजी करने आई तो भारत को शुरुआती झटके लगे।

मोहम्मद आमिर और मोहम्मद सामी ने भारत के तीन विकेट जल्दी गिरा दिए। रोहित शर्मा 10, शिखर धवन 6 और सुरेश रैना खाता खोले बिना आउट हो गए।

ऐसा लगा पाकिस्तान मैच पलट देगा, लेकिन विराट कोहली ने 37 गेंदों में 55 रन बनाए और टीम को जीत दिला दी। उन्होंने अपनी पारी के दौरान 7 चौके और 1 छक्का लगाया। टीम इंडिया ये मैच 6 विकेट से जीत गई। विराट कोहली प्लेयर ऑफ द मैच बने।

किंग कोहली ने पाकिस्तान के खिलाफ 2022 के वर्ल्ड कप में 6 चौके और 4 शानदार छक्के लगाए।

किंग कोहली ने पाकिस्तान के खिलाफ 2022 के वर्ल्ड कप में 6 चौके और 4 शानदार छक्के लगाए।

हार के बावजूद लगाई फिफ्टी
2021 के टी-20 वर्ल्ड कप में भले ही टीम इंडिया को पहली बार पाकिस्तान के खिलाफ हार मिली हो, लेकिन इस मैच में भी विराट ने 57 रन की पारी खेली थी। 2022 के टी-20 वर्ल्ड कप में विराट की 53 गेंद पर 82 रन की नाबाद पारी तो अभी जहन से भी नहीं उतरी है।

वनडे वर्ल्ड कप में भी कोहली का रिकॉर्ड पाकिस्तान के खिलाफ शानदार रहा है। उन्होंने 3 मैच में 64.33 के औसत से 193 रन बनाए हैं।

अब बात क्रिकेट के भगवान की…
सचिन तेंदुलकर ने पाकिस्तान के खिलाफ वर्ल्ड कप में 5 मैच खेले हैं और 3 मुकाबलों में ये दिग्गज खिलाड़ी प्लेयर ऑफ द मैच रहा है। 2003 के वर्ल्ड कप में उनकी 98 रन की पारी भला कौन भूल सकता है। पाकिस्तान ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला किया था। उसने ओपनर सईद अनवर के शतक की मदद से 50 ओवर में 273 रन बनाए। अनवर ने 126 गेंद पर 101 रन की पारी खेली।

सचिन ने इस मैच में 75 गेंद पर 98 रन की पारी खेली। वे जब आउट हुए तब 134 गेंद पर 97 रन बनाने थे। यानी 4.34 के रन रेट से। जिसे राहुल द्रविड़ और युवराज सिंह ने आसानी से हासिल कर लिया।

2011 के वर्ल्ड कप में सचिन ना होते फाइनल भी खेलना मुश्किल था
साल 2011, तारीख 30 मार्च, जगह – मोहाली, आमने-सामने थे भारत और पाकिस्तान.. जब भारत ने पाकिस्तान को हराकर फाइनल में जगह पक्की की थी। भारतीय टीम ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 9 विकेट पर 260 रन बनाए, लेकिन पाकिस्तान को 231 रन पर ऑलआउट कर दिया।

वीरेंद्र सहवाग (38) ज्यादा कुछ नहीं कर सके और पहला विकेट 48 के स्कोर पर गिरा फिर गौतम गंभीर (27) और सचिन ने पारी को आगे बढ़ाया, दोनों ने दूसरे विकेट के लिए 68 रन जोड़े। वहाब रियाज ने विराट कोहली (9) को पवेलियन की राह दिखा दी और युवराज सिंह को खाता तक नहीं खोलने दिया।

सचिन ने महेंद्र सिंह धोनी (25) के साथ भी 46 रन जोड़े और 85 रन बनाकर पांचवें विकेट के तौर पर आउट हुए। उन्होंने 115 गेंदों पर 11 चौकों की मदद से 85 रन बनाए।

पाकिस्तान की टीम 49.5 ओवर में 231 रन पर ऑलआउट हो गई। सचिन को उनकी शानदार पारी के लिए प्लेयर ऑफ द मैच चुना गया।

वर्ल्ड कप से जुड़ी यह खबर भी पढ़ें…

मैक्सवेल के गले पर लगी खतरनाक बाउंसर:दर्द से मैदान पर ही बैठ गए, श्रीलंका के खिलाफ मैच रोकना पड़ा

टी-20 वर्ल्ड कप के सुपर-12 ग्रुप में मंगलवार को ऑस्ट्रेलिया-श्रीलंका के बीच मैच खेला गया। मैच की दूसरी इनिंग में श्रीलंका के लहिरु कुमारा ने घातक गेंदबाजी की फिर 13वें ओवर में सब्स्टिट्यूट फिल्डर अशीन बंडारा ने शानदार कैच लपका। कुमारा के खतरनाक ओवर के रोमांच की खबर को पढ़ने के लिए क्लिक करें

खबरें और भी हैं…

.



Source link