मुस्लिम संगठन ने PM योजना के घर में बनाया था; भाजपा नेता की शिकायत पर एक्शन | Muslim organization built in the house of PM Yojna; Action on complaint of BJP leader

0
0


  • Hindi News
  • National
  • Muslim Organization Built In The House Of PM Yojna; Action On Complaint Of BJP Leader

लखीपुर3 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

असम के लखीपुर में बने मियां म्यूजियम को प्रशासन ने सील कर दिया है। मुस्लिम संगठन द्वारा प्रधानमंत्री आवास योजना के मकान में इसे दो दिन पहले ही बनाया गया था। भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के सदस्य अब्दुर रहीम जिब्रान की शिकायत पर प्रशासन ने मंगलवार को कार्रवाई की।

म्यूजियम बनाने वालों का कहना है इसमें कृषि उपकरण और अन्य वस्तुओं को प्रदर्शित किया गया था। CM हिमंत बिस्वा सरमा ने कहा कि म्यूजियम में प्रदर्शन के लिए रखी गई वस्तुएं मूल निवासियों के पारंपरिक उपकरण हैं। इसके बाद ही प्रशासन ने संग्रहालय को सील कर दिया। पुलिस ने दो लोगों को अरेस्ट किया है, इनमें घर का मालिक मोहर अली, जो ऑल असम मिया संगठन का अध्यक्ष हैं और दूसरा सरकारी टीचर है।

नंगोल का इस्तेमाल मियां ही करते हैं साबित करें: CM
संग्रहालय में दिखाया गया नंगोल (हल), केवल मियाओं की संपत्ति कैसे हो सकती है? यह असमिया समुदाय से ताल्लुक रखता है। मछली पकड़ने के लिए इस्तेमाल की जाने वाली चीजें भी संग्रहालय में रखी थीं, लेकिन इनका इस्तेमाल तो हमारे अनुसूचित जाति के लोग सदियों से करते आ रहे हैं। CM सरमा ने म्यूजियम को लेकर कहा कि यहां पर लुंगी के अलावा कुछ भी नया नहीं है।

मियां संग्रहालय के प्रबंधन को यह साबित करना होगा कि ‘नंगोल’ का इस्तेमाल विशेष रूप से ‘मियां’ ही करते हैं, न कि असमिया लोग। अगर उन्होंने असमिया लोगों के इस्तेमाल की जाने वाली वस्तुओं के साथ मियां संग्रहालय खोला है, तो पुलिस केस दर्ज किया जाएगा। मियां कविता के बाद, हमने मियां स्कूल और संग्रहालय देखा। मैं हमेशा से इन चुनौतियों की ओर इशारा करता रहा हूं।

संग्रहालय में रखे सामानों के बारे में यह बताया गया कि यह मियां लोग यूज करते हैं, जबकि सरकार का दावा है कि यह सामान असमिया समुदाय से ताल्लुक रखते हैं।

संग्रहालय में रखे सामानों के बारे में यह बताया गया कि यह मियां लोग यूज करते हैं, जबकि सरकार का दावा है कि यह सामान असमिया समुदाय से ताल्लुक रखते हैं।

उन वस्तुओं को प्रदर्शित किया, जिससे समुदाय की पहचान होगी
गिरफ्तारी से पहले अली ने कहा था कि हम उन वस्तुओं को प्रदर्शित कर रहे हैं जिनसे समुदाय की पहचान होती है ताकि अन्य समुदायों के लोग महसूस कर सकें कि मियां उनसे अलग नहीं हैं। असम में मियां शब्द उन बांग्ला भाषी मुस्लिम प्रवासियों के लिए इस्तेमाल किया जाता है, जिनकी जड़ें बांग्लादेश से जुड़ी हैं।

संग्रहालय को फिर से खोलने की मांग करते हुए अली अपने दो नाबालिग बेटों के साथ घर के बाहर धरने पर बैठ गए।

अली पर पहले से धार्मिक भावना भड़काने का केस
जिस सरकारी शिक्षक को भी गिरफ्तार किया गया है। वह सरकार विरोधी गतिविधियों के लिए पहले से ही निलंबित था। घर के मालिक अली पर पहले से ही नलबाड़ी जिले में राज्य के खिलाफ धार्मिक भावना भड़काने पर मामला दर्ज था। उसे UAPA के तहत गिरफ्तार किया गया था।

खबरें और भी हैं…

.



Source link