ट्रांसफर पर ब्रजेश पाठक की नाराजगी के बाद सियासत तेज, कांग्रेस एमएलसी ने सीएम योगी को लिखा पत्र – politics intensifies after brajesh pathak displeasure over transfer congress mlc deepak singh wrote letter to cm yogi

0
0


लखनऊ: उत्तर प्रदेश सरकार के उपमुख्यमंत्री ब्रजेश पाठक के लेटर बम ने स्वास्थ्य विभाग से लेकर सरकार तक हड़कंप मचा दिया है। वहीं, विपक्षी पार्टियां भी अब ब्रजेश पाठक के पत्र के जरिये योगी सरकार पर निशाना साधने का कोई मौका नहीं छोड़ रही हैं। सपा मुखिया अखिलेश यादव ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर सरकार पर हमला बोला तो वहीं कांग्रेस एमएलसी दीपक सिंह ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखकर ट्रांसफर घोटालों की एसआईटी से जांच कराने की मांग कर डाली है।

ट्रांसफर घोटाले का विष जनता हजम नहीं कर पा रही- दीपक
कांग्रेस एमएलसी दीपक सिंह ने योगी को लिखे पत्र में प्रदेश सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि वर्तमान समय में योगी 2.0 चर्चा बड़े जोरों से चल थी कि प्रदेश की जनता को सरकार के 100 दिन के इस मंथन में कुछ अमृत निकालेगा, लेकिन जिस तरह से 100 दिन के मंथन में प्रदेश सरकार के दर्जनों विभागों के ट्रांसफर घोटालों का विष निकला है, उसे यूपी की जनता हजम नहीं कर पा रही है।

SIT से जांच कराने की मांग
दीपक सिंह ने ट्रांसफर घोटाले की जांच की मांग करते हुए पत्र के माध्यम से कहा कि सरकार के स्वास्थ्य, कृषि, मत्स्य, बेसिक शिक्षा आदि विभागों में अधिकारियों-कर्मचारियों के स्थानान्तरण में मंत्रियों-उच्च अधिकारियों के बीच घोटालों और धन उगाही से स्वतः स्पष्ट है। यदि आप सरकार चलाने में न्यायप्रिय हैं तो ट्रांसफर घोटालों की जांच एसआईटी से कराकर स्वेत पत्र जारी कराने का कष्ट करें।

ब्रजेश पाठक मामले पर अखिलेश का हमला
वहीं, उपमुख्यमंत्री ब्रजेश पाठक की ओर से उठाए गए स्वास्थ्य विभाग के तबादलों पर सवाल को लेकर सपा मुखिया अखिलेश यादव भी निशाना साध चुके हैं। उन्होंने लखनऊ स्थित सपा कार्यालय में प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए कहा कि उपमुख्यमंत्री लखनऊ छोड़कर गए और जब वापस आए तो पता लगा कि उनसे बिना पूछे ही ट्रांसफर हो गए। 100 दिन की यही उपलब्धि है, ये वो उपमुख्यमंत्री हैं, जिन्होंने सबसे ज्यादा छापा मारा। जहां-जहां गए कमियां दिखीं, लेकिन किसी पर कार्रवाई नहीं की। अखिलेश ने कहा कि 5 साल 100 दिन की उपलब्धि ये है कि सरकार को कोई पीछे से चला रहा है।

तबादले पर ब्रजेश पाठक ने उठाए थे सवाल
बता दें कि प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री और उपमुख्यमंत्री ब्रजेश पाठक के नाम से जारी पत्र में स्वास्थ्य विभाग में हुए तबादलों पर गंभीर सवाल उठाए गए थे। अपर मुख्य सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य को लिखे गए पत्र में आरोप लगाया गया है कि वर्तमान सत्र में जो भी स्थानांतरण किए गए हैं, उनमें स्थानांतरण नीति का पूर्णतः पालन नहीं किया गया है। इसको लेकर उप मुख्यमंत्री ने स्थानांतरण किए जाने का कारण स्पष्ट करते हुए उनका सम्पूर्ण विवरण उपलब्ध कराने के निर्देश दिए हैं। ब्रजेश पाठक के इस पत्र के वायरल होने के बाद योगी सरकार के लिए नई मुसीबतें खड़ी हो गई हैं। विपक्षी नेता लगातार प्रदेश सरकार को कटघरे में खड़ा कर रहे हैं।
रिपोर्ट- अभय सिंह



Source link